कुछ लाभदायक होलसेल बिज़नेस प्लान | Wholesale business ideas in Hindi

नमस्कार मित्रो आज हमारा लेख थोक व्यापार (होलसेल बिजनेस प्लान) से संबधित है। या आप ये भी कह सकते है के हम आज कुछ लाभदायक थोक व्यापार विचारों के बारेमे आपको बताने वाले है। इस लेख में थोक व्यापार से संबधित सभी महत्वपूर्ण जानकारीयां जैसे थोक व्यापार क्या होता है, थोक व्यापार कैसे शुरु करे, थोक व्यापार के रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज इत्यादि। अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक पढे। (Wholesale Business ideas in Hindi).

 होलसेल बिज़नेस प्लान
थोक व्यापार विचारों के लिस्ट हिंदी में। 

Article Contents

थोक व्यापार (Wholesale Business) किसे कहते है ?

थोक व्यापार का सामान्य अर्थ है कि किसी उत्पाद निर्माता कंपनी से बङी मात्रा में उनके उत्पादो को खरीदकर उसे बाजार में छोटे व्यापारीयो अर्थात फूटकर व्यापारी को बेचना। थोक व्यापारी निर्माणकर्ताओ तथा फूटकर व्यापारियो के बीच कङी की तरह कार्य करता है।

थोक व्यापार के प्रकार

थोक व्यापार के तीन प्रकार है।

  • थोक व्यापारी- थोक व्यापारी बङी मात्रा में उत्पाद खरीदते है और उसको पुन: खुदरा विक्रेताओ को उच्च कीमत में बेंचते है।
  • दलाल- दलाल इन दोनो अर्थात थोक विक्रेता तथा खुदरा विक्रेताओ के बीच की कङी है। जो आपस में लेनदेने के काम को आसान करते है।
  • वितरको को बङी मात्रा तथा उत्पाद के वितरण के व्यापक क्षेत्रो के साथ सौदा करना आवश्यक होता है।

थोक व्यापार कैसे शुरु करे

भारत में एक अच्छा थोक व्यापार शुरु करने के लिए बङे निवेश की आवश्यकता होती है। जो इस व्यवसाय की सबसे बङी समस्या है। इसके अलावा थोक व्यापार को शुरु करने के लिए उत्पाद, ब्रांड व कंपनी का चयन करना तथा इसके असफल होने का जोखिम इसे कठिन कार्य बना देता है।

लेकिन हम एक सही सलाह के जरिए व्यापार कर सकते है।

सही उत्पाद का चुनाव

सबसे पहले उस उत्पाद का चयन करे, जिसे आप बाजार में बेंच सकते है।

आप उस उत्पाद को चुने जिसकी मांग अधिक हो, उसे बेंचना आसान हो, संभालनें में आसानी हो तथा उत्पाद के खराब होने की संभावन कम हो।

किसी भी उत्पाद का चयन करने से पहले उस उत्पाद से संबधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए।

जरुरी लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन

अपने बिजनेस के नाम से चालू खाता बनाने के लिए रजिस्टर करना आवश्यक है, आप प्रोपाइटरशिप के जरिए रिस्ट्रेशन करा सकते है।

बैंक में बिजनेस के नाम से खाता शुरु करते समय वहां पर आपको बिजनेस का पता प्रमाण पत्र, रजिस्ट्रेशन का सर्टिफिकेट, बिजनेस के नाम का पैन कार्ड आदि की आवश्यकता होगी। इसके अलावा आपको GST रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

इसके अलावा आपको शॉप्स एंड एस्टाब्लिश्मेंट एक्ट के तरह रजिस्ट्रेशन कराना पङ सकता है।

अपने व्यवसाय का ट्रेड लाइसेंस बनाने के लिए आपको नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि से संपर्क करना होगा।

विनिर्माणकर्ता या डिस्ट्रीब्यूटर ढूंढना

आप अपने व्यवसाय के लिए उस कंपनी के उत्पाद को चुने जो प्रसिद्ध हो तथा उसके बिकने के अवसर अन्य कंपनी के उत्पादो से अधिक हो।

अच्छी कंपनी का उत्पाद का चयन करने के बाद आपको उसके डिस्ट्रीब्यूटर को ढूंढने में आसानी होगी। जो आपके पास उस कंपनी के उत्पाद को पहुंचाता है।

बङी सी जगह का प्रबंधन

थोक व्यापार करने के लिए एक बङी जगह की आवश्यकता होती है।

क्योंकि होलसेल बिजनेस करने के लिए उद्यमी को बङी मात्रा में उत्पाद खरीदने की आवश्यकता होगी, जिसे सुरक्षित रखने के लिए एक बङे सुरक्षित स्थान का होना आवश्यक है।

खरीदी और बिक्री दोनो का ट्रेक रखे

Wholesale Business करने के लिए उद्यमी को खरीदे गए माल तथा बेंचे गए माल का रिकॉर्ड रखना चाहिए।

अपने Business का रिकॉर्ड रखने के लिए आप रजिस्टर बना सकते है या किसी ऑनलाइन सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते है।

थोक व्यापार विचारों | Wholesale business ideas in Hindi

चलिए अब हम कुछ wholesale Business ideas की बात करेंगे, जिन्हे आप शुरु कर सकते है। ये कुछ ऐसे होलसेल बिजनेस प्लान है जो भारत जैसे बाजार के लिए उपयुक्त है

ऑटोमोबाइल उत्पाद बिजनेस

समय के साथ भारत ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में काफी तेजी से वृद्धि कर रहा है।

भारतीय जीवन में ऑटोमोबाइल की अहम भूमिका है। इसी कारण भारत में दुपहिया वाहन, कार, ट्रक, टेक्टर इत्यादि की मांग काफी तेजी से बढ रही है।

ऑटोमोबाइल के पार्टस के हॉलसेल बिजनेस की सीमा काफी अधिक हो सकती है।

खेल के उत्पादो का व्यवसाय

आप खेलो के उत्पाद या सामानो के डिलर बन सकते है। जो काफी अच्छा व्यापार भी है। 

आज लोग खेलो के प्रति काफी आकर्षक हो रहे है तथा कई युवा खेल में अपना करियर बनाने के बारें में सोच रहे।

इसलिए आप किसी विशेष खेल सामग्री का व्यापार शुरु कर सकते है।

रसोई बर्तन व्यापार

बर्तन मानव जीवन की बुनियादी मांगो में से एक है।

जिस कारण बर्तनो की मांग कभी कम नही होती है। इसकी मांग समय के साथ साथ बढ रही है।

इस कारण यह एक अच्छे व्यवसाय आइडिया के रुप में निखर रहा है।

एग्रोकेमिकल बिजनेस

एग्रोकेमिकल का अर्थ है कृषि से संबधित रसायन है, उदा. कीटनाशक दवाईयां।

भारत एक कृषि प्रधान देश है, जहां काफी अधिक मात्रा में लोग खेती करते है, इसी कारण खेतो को कीटो से बचाने वाले रसायनो की मांग भी काफी तेजी से बढ रही है। 

बेकरी का बिजनेस

बेकरी का बिजनेस एक खाद्य सेवा बिजनेस है, जो काफी प्रचलित है।

एक रिसर्च कंपनी का अनुमान है कि अगले कुछ वर्षो में भारत में ही बेकरी का बाजार मुल्य 12 अरब डॉलर से अधिक हो सकता है।

आप भी बैकरी का बिजनेस शुरु कर सकते है, जो काफी लाभप्रद भी है।

कपङा व्यापार

आप थोक व्यापार के अंतर्गत आप कपङे का थोक व्यापार कर सकते है।

चुंकि कपङे की मांग काफी तेजी से बढ रही है, कपङे का उद्योग भारत में काफी समय से चल रहा है।

इसके अलावा आप सिलाई मशीन, धागे, कपङे के धागे, चमङे, जूते, कपङे आदि को कंपनियो से खरीद कर फूटकर विक्रेताओ को बेंच सकते है।

आयुर्वेदिक उत्पादो का बिजनेस

हाल के समय आयुर्वेद उत्पादो की मांग में तेजी हुई है।

क्योंकि ये प्राकृतिक है तथा इसके कोई दुष्प्रभाव नही है।

हाल ही में इसके कई सारे रिजल्ट भी आए है।

अंत आप इसके वितरण का बिजनेस कर सकते है। इसके वितरण के लिए लाइसेंस की आवश्यकता नही है, जिससे आप अपने व्यवसाय की सीमा को बढा सकते है।

स्टेशनरी व्यापार

आप स्टेशनरी का व्यापार कर सकते है। जिसमें स्कूल, कॉलेज, कला केंद्रो तथा कार्यालयो से सबंधित उत्पाद का थोक व्यापार कर सकते है।

वर्तमान समय में युवाओ की संख्या तेजी से बढ रही है। जिस कारण इस बिजनेस के व्यापार  में मंदी आने की संभावना बहुत कम है।

प्लास्टिक उत्पाद थोक व्यापार

प्लास्टिक तथा उसके उत्पाद के थोक व्यापार काफी विचारणीय है, क्योंकि इसके उत्पाद काफी सस्ते और टिकाऊ होते है।

इस कारण लोग इन्हे ज्यादा पसंद करते है।

प्लास्टिक तथा उसके उत्पादो का रसाई से लेकर कार्यालयो तक उपयोग किया जाता है। इस कारण इसकी मांग हमेंशा बढती ही है।

FMCG (fast moving consumer goods) का बिजनेस

यह सबसे लोकप्रिय व्यापार है। इस श्रेणी में उन उत्पादो को रखा जाता है, जिनकी मांग सबसे अधिक होती है।

इस श्रेणी में दूध, चीनी, टोस्ट, शेम्पू, फेसवाश, सौंदर्य प्रसाधन, टॉयलेटरीज, स्वच्छता के उत्पाद आदि जैसे उपयोगी उत्पादो को शामिल किया गया है।

ये ऐसे उत्पाद है, जिनकी मांग कभी कम नही हो सकती है और इस व्यापार में मंदी आने के बहुत कम अवसर है।

अनाज का थोक व्यापार

अनाज बहुत ही सामान्य सी चीज है, जिसका उपयोग प्रत्येक मानव करता है।

अक्सर बङे रेस्टोरेंट, मंदिरो तथा अन्य बङे समारोह में अनाज को बङी मात्रा में खरीदा जाता है।

आप भी अनाज का थोक व्यापार कर सकते है तथा आप अनाज को बेंच कर अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते है।

इलेक्ट्रोनिक उत्पादो का थोक व्यापार

इलेक्ट्रोनिक्स उत्पाद जैसे फ्रीज, ऐसी, कूलर, वाशिंग मशीन, ऑवेन इत्यादि की मांग काफी बढ रही है।

इन उत्पादो का Business कभी ठप न पङने वाला बिजनेस है। इस बिजनेस में काफी लाभ भी है।

बिल्डिंग और कंस्ट्रक्शन उत्पादो का बिजनेस

निर्माण कार्य में उपयोग किये जाने वाले कच्चे माल का बिजनेस काफी तेजी से बढ रहा है तथा लाभप्रद है।

आप कच्चे माल में सीमेंट, पत्थरो, टाइल्स, कलर, रेत जैसे इत्यादि उत्पादो का बिजनेस कर सकते है।

थोक व्यापार के फैल होने के कारण

Wholesale Business के सफल होने के जितने अवसर है, उतने ही उसके असफल होने के भी है। नीचे कुछ कारणो के बारें में बताएंगे, जिसके कारण Wholesale Business फैल हो जाता है।

  • विनिर्माताओ से अधिक दाम में माल को खरीदना
  • कम मांग वाली कंपनी के उत्पाद को खरीदना
  • ग्राहको तथा विक्रेताओ से अधिक संपर्क न होना
  • अपने बिजनेस से संबधित जानकारी का रिकॉर्ड न रखना
  • सीमा से अधिक उधारी देना

FAQs (Wholesale business ideas)

प्र.1 थोक व्यापार को कितने पैसो में शुरु कर सकते है?

उ. थोक व्यापार शुरु करने के लिए अधिक मात्रा में पूंजी का आवश्यकता होती है। एक थोक व्यापार को शुरु करने के लिए पूंजी की आवश्यकता आपके बिजनेस के प्रकार पर निर्भर करती है।

प्र.2 थोक विक्रेता तथा फुटकर विक्रेता में क्या अंतर है?

उ. थोक विक्रेता विनिर्माता कंपनीयो से उत्पादो को खरीदते है तथा उन्हे अच्छी कीमत में फुटकर विक्रेताओ तथा ग्राहको को बेंचते है। ये अधिक मात्रा में सामान बेंचते है।

जबकि फुटकर विक्रेता थोक विक्रेता से उत्पादो को खरीद कर ग्राहको को बेंचते है। ये सामान को कम मात्रा में बेंचते है।

प्र.3 हॉलसेल बिजनेस कैसे शुरु करे?

उ. उस उत्पाद से संबधित सभी जानकारीया प्राप्त करे।

  • विनिर्माता कंपनियो के बारें में पता लगाए।
  • बिजनेस के लिए जगह ढूंढे।
  • किसी जानकार से सलाह ले।
  • कंपनी से उत्पाद खरीदे।
  • एकाउंट मैनेजमेंट करे तथा नेटवर्क बनाए।

प्र.4 सरकार थोक व्यवसाय शुरु करने के लिए सहायता कैसे करती है?

उ. हां, भारत सरकार छोटे व्यवसायो को बढावा देने के लिए कुछ योजनाए चलाई है। जैसे

    • कच्चे माल की सहायता
    • गुणक अनुदान योजना (मल्टीप्लायर ग्रांट्स स्कीम)
    • क्रेडिट गारंटी फंड स्कीम
    • माइक्रो यूनिटएस विकास और पुनर्वित्त एजेंसी ऋण
    • क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट

 

निष्कर्ष (होलसेल बिजनेस प्लान)

कोई भी व्यापारी या उद्यमी थोक व्यापार में मेहनत करके चमत्कार कर सकता है। आपके व्यापार की सफलता आपकी मेहनत, उत्पाद की मांग, भौगोलिक विशालता तथा आपके संपर्क पर निर्भर करती है।

अंत: हमने इस लेख में जाना कि थोक व्यापार किसे कहते हैं, थोक व्यापार के प्रकार, थोक व्यापार कैसे शुरु करे, (Wholesale Business Ideas in Hindi).

जरूर पढ़े –

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link