मार्केटिंग क्या है और मार्केटिंग के प्रकार | What is marketing in Hindi

आजके इस आर्टिकल पर हम बात करने वाले है के, मार्केटिंग क्या है इन हिंदी (What Is Marketing in Hindi), मार्केटिंग की परिभाषा (Marketing Definition), मार्केटिंग मिक्स क्या है, मार्केटिंग के प्रकार (Types of marketing) और मार्केटिंग कैसे करते हैं इसके बारेमे। 

मार्केटिंग क्या है
मार्केटिंग किसे कहते है ?

हम  सभी को पता है के किसी भी नए पुराने व्यवसाय (business) के लिए मार्केटिंग का महत्व कितना ज्यादा होता है।

यूँ तो marketing word एक बोहोत ही ज्यादा common word है जिसका इस्तेमाल हर दूसरा इंसान कभी न कभी तो करता ही है।

जबभी लोगो को पूछा जाता है के, मार्केटिंग क्या होता है तो वो अलग अलग जवाब देते है।

कोई कहता है के मार्केटिंग का मतलब होता है सेल्स (sales), दूसरा कहता है business और products की advertising करने को marketing कहते है।

लेकिन मार्केटिंग का मतलब कोई products को sell या advertise करना नहीं होता।

वैसे, product promotion, sales, advertising ये सभी marketing के process में जरूर शामिल होते है।

बोहोत से लोग ये भी सोचते है के, मार्केटिंग तो चुना लगाकर माल बेचने को कहते है।

लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है।

मार्केटिंग एक ऐसी कला (art) होती है जहा आपको customers की needs को समझ कर सही रणनीति के साथ उन्हें उनके जरुरत के मुताबिक products के बारेमे जानकारी देना होता है।

और जब सही marketing strategy के साथ आप सही customer को सही product suggest करते है, तब products की सेल अपने आप increase होने लगती है।

तो, मार्केटिंग को हम एक रणनीति के तौर पर भी बोल सकते है जिसके जरिये products और brand के बारेमे सही और टार्गेटेड customers को जानकारी दी जाती है।

चलिए अब हम निचे मार्केटिंग के बारेमे आपको detailed जानकारी देने है।

मार्केटिंग क्या है ? What is marketing in Hindi

अगर सीधे तौर पर कहे तो, marketing का मतलब होता है ग्राहक के जरूरतों को पहचानना (identify) या नए जरूरतों को उत्पन्न करना और उन्हें लाभप्रद रूप से संतुष्ट करना।

ज्यादातर ऐसा होता है के, ग्राहक को खुद को और companies दोनों को पता होता है के ग्राहक की जरूरतें क्या क्या है।

अब इस मामले में, आपको सिर्फ पहले से मौजूद ग्राहक के जरूरतों को पहचानना है और सही रणनीति के साथ उन्हें उनके जरुरत के मुताबिक products बताना है।

लेकिन बोहोत बार ऐसा भी होता है के, ग्राहक को खुद को ही अपने कुछ जरूरतों के बारेमे पता नहीं होता।

अब इस मामले में, आपको इस तरह के ग्राहक को समझाना होता है के उन्हें अपने उस जरुरत के ऊपर ध्यान देना चाहिए जिसके बारेमे वो नहीं सोच रहे।

मतलब, आपको अपने customer को सही रणनीति के साथ उनके जरूरतों के बारेमे उन्हें बताना है।

तो मार्केटिंग का तातपर्य (Marketing meaning in Hindi) यही हे के, customers के needs को समझना या कभी कभी needs को create करना भी होता है और products और services के माध्यम से ग्राहक को संतुष्ट करना।

ग्राहक के जरूरतों को पहचानने के लिए या उन्हें उनके जरूरतों के बारेमे बताने के लिए बोहोत सी marketing strategies का इस्तेमाल किया जाता है।

जैसे, door to door promotion, survey, advertisements, discount/offers देना इत्यादि।

मार्केटिंग के माध्यम से एक व्यवसाय, ब्रांड या प्रोडक्ट आसानी से ग्राहक पर अपना ध्यान केंद्रित करवा सकता है।

इससे ज्यादा से ज्यादा ग्राहक उस business, brand या product के बारेमे जान सकेंगे और अपने जरुरत के हिसाब से products या services को खरीदने की सोचेंगे।

तो अब आपको मार्केटिंग का मतलब (marketing meaning) जरूर समझ आ गया होगा।

मार्केटिंग की परिभाषा – Marketing definition in Hindi

मार्केटिंग एक ऐसी प्रक्रिया (process) है जहा, किसी भी product या service के ऊपर रूचि (interest) रखने वाले ज्यादा से ज्यादा potential clients या customers का ध्यान आकर्षित किया जाता है।

Marketing के process में किसी भी product या service से सम्बंधित researching, promoting, selling और distributing शामिल रहता है।

मार्केटिंग की परिभाषा बोहोत ही आसानी से आप समझ सकते है।

“सही market research और advertising के जरिये products और services को प्रचार (promotion) और उनके बिक्री को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने की एक प्रक्रिया या व्यापार क्रिया को मार्केटिंग कहते है”.

आज किसी भी company या organization को grow करने के लिए marketing strategies और marketing techniques को अपनाना ही परता है।

क्योंके बिना marketing के आपके business, brand या product के बारेमे लोगो को पता नहीं होता और अगर पता होता भी हे तो वो भी बोहोत कम लोगोको।

अभी के समय में किसी भी business के सभी key aspects मेसे एक बन चूका है मार्केटिंग।

मार्केटिंग मिक्स क्या है ? What is marketing mix in Hindi

मार्केटिंग मिक्स को किसी भी business की foundation model के तौर पर देखा जाता है जो के मूल रूप से product, price, place और promotion से ज़ुरा रहता है।

Marketing mix को “set of marketing tools” के हिसाब से कहा जा सकता है जिन्हे firm या businesses के द्वारा किसी भी targeted market पर marketing objectives को लक्ष्य रखकर आगे बढ़ने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

इस मार्केटिंग मिक्स को आप मार्केटिंग की रणनीति या टूल्स के तौर पर समझ सकते है।

मार्केटिंग मिक्स की प्रक्रिया में अलग अलग घटक (components) शामिल है जिनमे मूल रूप से पहले 4Ps (प्रोडक्ट, प्राइस, प्लेस और प्रमोशन) शामिल है।

लेकिन, समय के साथ साथ बाद में और P को add किया गया और जिससे बर्तमान में मूल रूप से 7P को ज्यादा से ज्यादा ध्यान में रक्खा जाता है।

चलिए अब हम marketing के सभी महत्वपुर्णो 4Ps के बारेमे जान लेते है।

Product 

आप जो भी product या service की बिक्री करना चाहते है वो आपके marketing mix का सबसे जरुरी तत्त्व होता है जिसपर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

आपके product या service के जरिये लोग उनके जरूरतों को सही से पूरा कर पाएंगे या नहीं इस बात पर ध्यान देना जरुरी है।

आपको जानना होगा के, आपका product ग्राहक के कोनसे problems को solve कर सकता है ? आपका product उस समस्या को सुलझाने में सबसे best क्यों है ?

ये सारे सवालों के जवाब आपको जानना होगा ताके ज्यादा से ज्यादा products की sale हो सके।

Price 

किसी उत्पाद का price निर्धारित करना marketing strategy का बोहोत ही जरुरी अंग (component) होता है।

हर उत्पाद को बेच कर आपको कितना मुनाफा होगा, लोग आपके उत्पाद को खरीदने के लिए कितना तक खर्च करने के लिए तैयार है, market में मौजूद competition, ये सभी चीजों को देखते हुवे आपको product की price fix करना होता है।

उत्पाद को खरीदते समय या खरीदने के बाद ग्राहक को ये न लगे के उत्पाद की कीमत बोहोत ही ज्यादा है।

कहने का तातपर्य यही है के उत्पाद का बिलकुल उचित कीमत आपको लगाना चाहिए जिसमे ग्राहक और आपका दोनोका मुनाफा हो सके।

Place 

आपके targeted customers को हमेशा पता होना चाहिए के आपका product उन्हें कैसे और कहासे आसानी से मिल सकेगा।

Products को खरीदते समय ग्राहक को अच्छा अनुभव मिल सके और उन्हें कोई भी परेशानी न हो, ये भी ध्यान रखना जरुरी है।

इसीलिए, आपको हमेशा ऐसी जगहों पर अपने उत्पादों को बेचना चाहिए जहा आपके targeted customers की पोहोच ज्यादा से ज्यादा हो और वो आपके उत्पाद को आसानी से खरीद सके।

जगह वैसे कोई भी हो सकता है जैसे, online e-commerce store, shopping mall, small shops इत्यादि।

बस आपको आपके targeted audience को समझ कर सही जगह चुनना है।

Promotion 

Successful marketing strategies की बात करे तो यहाँ ज्यादातर सभी promotional activities को include किया जाता है।

जैसे, advertising, direct marketing, in-store promotional activities इत्यादि।

Digital promotion techniques जैसे online events, email, chats, social media, blogs, affiliate, online ads इत्यादि अभी के समय में सबसे ज्यादा कारगर promotion techniques मेसे एक माना जाता है।

Promotion के जरिये आप अपने targeted market में customers को अपने products / services के लाभ और सुविधाओं के बारेमे जानकारी देते है।

और इससे उत्पाद की बिक्री ज्यादा से ज्यादा increase होती है।

मार्केटिंग मैनेजमेंट क्या है ? (What is marketing management in Hindi)

देखिये, मार्केटिंग और मैनेजमेंट दोनों अलग अलग words है जिन्हे अलग अलग समझा जाए तो,

मार्केटिंग एक ऐसी प्रोसेस होती है जिसकी मदत से हम customers की जरूरतों को समझते है और उनको उनके जरूरतों के हिसाब से  products या services के बारेमे जानकारी देते है और आकर्षित करना।

अब मैनेजमेंट का मतलब होता है किसी भी प्रोसेस की पथप्रदर्शन करना या संचालन करना।

अब, marketing और management दोनों शब्दों को एक साथ समझा जाये तो,

अपने products या services को targeted customers तक पोहचाकर उन्हें product की जानकारी देने के लिए कोनसे operations या strategies का इस्तेमाल कर पुरे marketing process को संचालन कर रहे है, इसी पथप्रदर्शन को ही मार्केटिंग मैनेजमेंट कह सकते है।

अब आसान भाषा में समझे तो,

मार्केटिंग मैनेजमेंट का मतलब होता है, वो सभी analysis, planning, implementations, process, steps और control उन सभी programs के जो हमारे products / services और हमारे targeted market से जुड़े हुवे होते है organizational objectives को achieve करने के लिए।

वो प्रक्रिया (process) जहा new product development, research, advertising, promotions, sales की योजना बनाया जाता है और साथ ही देखरेख की जाती है, उसी प्रक्रिया को marketing management कहा जाता है।

मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है | मार्केटिंग के प्रकार

मार्केटिंग के प्रकार वैसे तो बोहोत से हो सकते है।

जिस भी किसी तरीके से हम अपने products / services के बारेमे लोगो को बता या समझा सकते है और उन्हें प्रमोट कर सकते है, उन सभी तरीके को marketing के types के तौर पर समझा जा सकता है।

चलिए कुछ प्रसिद्ध marketing types के बारेमे निचे जान लेते है।

Traditional marketing

किसी भी ऐसे channel के माध्यम से brand को promote करना जो के internet के आगमन से पहले से ही चला आ रहा है। जैसे, print, television ads, posters etc.

Digital marketing

ये traditional marketing के बिलकुल विपरीत कार्य करता है। यहाँ, electronic device और internet के जरिये brands को promote किया जाता है।

Social media, search engine, email, websites, digital ads इत्यादि के माध्यम से यहाँ customers के से connect हो सकते है।

Search engine marketing

Search engine marketing या SEM दरसल मार्केटिंग का वो तरीका है जहा search engine result page (SERP) पर brand, products और services को दिखाया जा सके।

सर्च इंजन के जरिये ऑनलाइन ग्राहक तक पोहोचने के लिए ये तरीका इस्तेमाल किया जाता है।

Content marketing

कंटेंट मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का मुख्य साधन माना जाता है, क्योंके किसी भी तरह के कंटेंट (text, article, video etc.) के जरिये customers / audience और साथ ही search engines किसी भी product या service के बारेमे जरुरी तथ्य प्राप्त कर सकते है।

Social Media Marketing

ये भी digital marketing का एक मुख्य साधन माना जाता है जहा तरह तरह के online social media platforms (Facebook, Instagram, Twitter etc.) की मदत से brands और products को promote किया जाता है।

अपने business के promotion के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर तरह तरह के content publish किया जाता है और लोगो के साथ share किया जाता है।

Video Marketing

वीडियो मार्केटिंग कंटेंट मार्केटिंग का एक ऐसा भाग से जिसमे brand या product को promote करने के लिए videos बनाया जाता है और लोगो से share किया जाता है।

यहाँ, videos को बनाकर तरह तरह के online platforms जैसे, YouTube, Facebook, website इत्यादि पर upload किया जाता है जिससे brand awareness और conversions मिलने में मदत मिलती है।

Email Marketing

ये भी digital marketing या internet marketing का एक हिस्सा है जहा email messages के जरिये brand, products या services के बारेमे लोगो को जानकारी दी जाती है।

Affiliate Marketing

इस मार्केटिंग के process में company अपने products और services को दूसरे businesses या individuals के जरिये promote करवाती है जिन्हे affiliates कहा जाता है।

Affiliates के द्वारा जितने भी products की sell / conversion होती है उन्हें उसके हिसाब से commission दिया जाता है कंपनी की तरफ से।

Affiliates अपने blogs, websites, YouTube channel या social media page इत्यादि की मदत से companies के products को promote करते है।

Word of Mouth Marketing

ये मार्केटिंग की प्रक्रिया दरसल किसी भी brand, company या product को लेकर ग्राहकों की शिफारिशों के ऊपर आधारित होती है।

ये अभी के समय में marketing का सबसे विश्वसनीय रूप माना जाता है।

क्योंके कोई भी व्यक्ति किसी भी brand या product की तारीफ दूसरों से तभी करता है अगर वो brand या product उसे अच्छा लगा हो।

और product तभी अच्छा लगता है जब उसकी quality, customer service अच्छा होने के साथ साथ product को जिस भी किसी कारन से बनाया गया हो उसपर वो खरा उतरे।

मार्केटिंग के क्या लाभ होते है ?

  • Customers की need को समझा जा सकता है।
  • अपने product को targeted audience तक पोहचाया जा सकता है।
  • आपके business, brand और product के बारेमे लोगो को सही जानकारी मिलती है।
  • Marketing की मदत से sales और conversions के chances बोहोत ज्यादा increase हो सकता है।
  • मार्केटिंग के जरिये अपने customers और audience के साथ अच्छा relation बनाया जा सकता है।
  • सही मार्केटिंग स्ट्रेटेजी के साथ ब्रांड के प्रति जागरूकता बढ़ाया जा सकता है।

 

आज हमने क्या सीखा ?

तो दोस्तों, आज हमने जाना के मार्केटिंग क्या है (What is marketing in Hindi) और मार्केटिंग की परिभाषा (marketing definition in Hindi).

इसीके साथ हमने मार्केटिंग मिक्स और मार्केटिंग कितने प्रकार की होती है इसके बारे में भी जाना। 

में उम्मीद करता हूँ के मार्केटिंग के बारेमे आपको सही से सब कुछ पता चक चूका होगा।

अगर आजका आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो आर्टिकल को शेयर जरूर करे।

इसके अलावा आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो निचे कमेंट कर हमे जरूर पतये।

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link