kyc क्या है ? What is KYC in Hindi | KYC form kaise bhara jata hai

KYC kya hota hai (KYC Meaning in Hindi)दोस्तों अभी के समय में आप कोई भी financial activity करने जाओगे तो आपसे KYC माँगा जाता है या फिर KYC बनाने के लिए कहते है। अब, बोहोत से लोग ऐसे भी होते है जिनको ये नहीं पता होता के “kyc क्या है” या फिर “KYC Ka Matlab Kya Hota Hai” और इसके साथ kyc form kaise bhara jata hai ये बोहोत से लोगो को पता नहीं होता।

kyc क्या है
KYC Meaning in Hindi

वैसे KYC का process बोहोत ही simple होता है जिसे केवल कुछ साधारण documents के साथ पूरा किया जा सकता है।

Bank account (banking), mutual investment, trading, loan और अन्य बोहोत से investment schemes और financial activities के लिए KYC करना जरुरी होता है।

दोस्तों, बोहोत से लोगो को KYC का महत्वा और क्यों जरुरी है ये भले पता रहता है, लेकिन KYC कैसे करे और केवाईसी फॉर्म कैसे भरे इसके बारेमे पता नहीं रहता।

और इसीलिए, आज के इस आर्टिकल के जरिये में आप लोगो को KYC के बारेमे पूरी जानकारी (KYC Information in Hindi) देने वाला हूँ। 

जी हाँ, में आपको “केवाईसी फॉर्म कैसे भरेया KYC form kaise bhara jata hai” इसके बारेमे भी जरूर बताऊंगा।

तो चलिए साबसे पहले निचे हम जान लेते है के kyc kya hota hai (What Is KYC in Hindi).

kyc क्या है ? KYC Ka Matlab Kya Hota Hai

सबसे पहले आपको जानना चाहिए के KYC का फूल फार्म (KYC Full Form in Hindi) क्या होता है। 

तो KYC का मतलब याने full form होता है “Know your customer“.

इसे हिंदी में आसानी से समझा जाये तो ये एक ऐसा document होता है जिसकी मदत से ग्राहक के बारेमे सभी जरुरी जानकारी मिलती है और जिसके जरिये ग्राहक की पहचान की स्थापना किया जा सकता है।

Know Your Customer का हिंदी मतलब होगा “ग्राहक को पहचाने“.

Banks या Non-Banking Finance Companies ये KYC इसीलिए बनवाती है ताके वो निश्चित रहे के उनका customer एक real person है।

इसके अलावा, customer से सम्बंधित सारे information जैसे उसका risk factor, identity, address, contact details इत्यादि Bank या company के पास मौजूद हो।

और इसी KYC के जरिये fraudulent transactions, money laundering, illegal financing और अन्य illegal corruption schemes को रोका या उनके ऊपर नजर रक्खा जा सकता है।

तो दरसल देखा जाय तो, KYC को एक document ही कहा जा सकता है जिसके जरिये companies उनके clients या customers के पहचान (identity) को verify कर सकती है।

Mutual fund, demat account (trading), Bank account खोलना, loan के लिए apply इत्यादि ज्यादातर financial activities के लिए KYC का process करवाना होता है।

KYC का process करवाने के लिए customer से याने आपसे कुछ documents मांगे जाते है जिनमे आपका passport size photo, ID proof और address proof के documents शामिल है।

HUF, partnership firm या companies के लिए KYC बनवाना हो तो और भी बोहोत से supporting documents आपको देने होते है।

जैसे, income proof (IT returns file), HUF deed, partnership deed, memorandum of association, authorized signatory list इत्यादि।

लेकिन, individual KYC बनवाने में आपको सिर्फ आपका ID proof, address proof और photo ही चाहिए होता है।

याद रखिये, banks या Non-Banking Finance Companies अपने ग्राहकों को किसीभी तरह के financial service प्रदान करने से पहले KYC regulations को जरूर से follow करती है।

तो दोस्तों, अब शायद आपको पता छल गया होगा के KYC क्या होता है (About KYC in Hindi).

e-KYC kya hai ? (what is e-KYC in hindi)

भारत (INDIA) में KYC को करने का प्रोसेस online भी किया जा सकता है और इसी online KYC process को e-KYC या Electronic Know Your Customer कहा जाता है।

eKYC के प्रक्रिया में, customers या clients के identity और address को Aadhaar authentication के जरिये electronically verify और record किया जाता है।

भारत में लगभग सभी के पास अपना Aadhaar card मौजूद है जिसके जरिये आसानी से KYC process को online ही पूरा किया जा सकता है।

आपने बोहोत से banks या mutual fund करवाने वाले apps में देखा होगा के वहा online KYC याने eKYC का option रहता है।

eKYC के process में आप घर बैठे अपने mobile या laptop की मदत से documents को online upload/verify कर KYC के process को पूरा कर सकते है।

e-KYC के process को paperless KYC भी कहा जाता है।

KYC application Form क्या होता है ? (Documents)

KYC process को शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको KYC application form की जरुरत होती है जो देखने में किसी भी अन्य application form की तरह दीखता है।

जैसे, Bank account opening form होता है कुछ उसी तरह।

KYC application form में आपसे कुछ personal और financial (income etc.) सवाल पूछे जाते है जिनके साही जवाब आपको लिखकर देना होता है।

जैसे के, आपका नाम, पैन नंबर, address, income slab, marital status, DOB इत्यादि।

आपको KYC form को सही से fill करना होता है और उसके साथ अपना एक passport size photo, address proof और id proof का Xerox with self attested attach करना होता है।

Identity Proof – Document List for KYC

  • Aadhaar Card
  • Passport
  • PAN Card
  • Voter’s Identity Card
  • Driving License
  • Photo identity proof of Central or State government
  • Ration card with photograph

Address Proof – Document List for KYC

  • Passport
  • Voter’s Identity Card
  • Driving License
  • Electricity Bill
  • Telephone bill
  • Bank Account Statement
  • Consumer Gas connection card or Gas Bill
  • Letter from any recognized public authority or public servant 
  • House Purchase deed

Income Proof – Document List for KYC (If required)

  • Income Tax Returns
  • Salary Slips
  • Bank Statement

KYC क्यों किया जाता है?

देखिये मैंने पहले ही आपको बताया है के KYC की मदत से Banks या NBFCs (non banking financial companies) आपको कोई भी financial services provide नहीं करती।

इसीलिए KYC तो आपको करवाना ही पड़ेगा अगर आपको एक bank account खोलना है या फिर mutual funds और trading जैसे अन्य financial services में निवेश करना हो।

अब सवाल ये है के, companies ये KYC करवाती क्यों है ?

देखिये किसी भी company के लिए उनके customers कौन है ये जानना बोहोत जरुरी होता है।

और जब बात आती है financial transactions और financial services की तब तो customers के बारेमे सभी जानकारी रखना और भी जरुरी होता है।

Companies हमेशा अपने ग्राहकों की KYC पहले इसीलिए करवाती है ताके कोई service प्रदान करने से पहले वो अपने हर ग्राहकोंको के बारेमे जान सके और ग्राहक की पहचान की स्थापना किया जा सके।

इससे, customers के behavior के ऊपर नजर रखने के साथ साथ money laundering जैसे activities को भी रोका और उनपर नजर रक्खा जा सकता है।

इसके अलावा जैसा के मैंने ऊपर बताया ही है,

KYC के जरिये fraudulent transactions, illegal financing/funding और अन्य illegal corruption schemes को रोका या उनके ऊपर नजर रक्खा जा सकता है।

जरूरत पड़ने पर, KYC process के दौरान customer के द्वारा दिए गए customer details, identity proof documents और input हमेशा ही कुछ government authorities, BANK या NBFS आसानी से access कर ग्राहकों के बारेमे जानकारी हासिल कर सकते है।

केवाईसी के कितने प्रकार की होती है ?

दरसल KYC का कोई अलग प्रकार नहीं रहता लेकिन KYC की process दो अलग अलग प्रकार से किया जा सकता है।

  • Paper based KYC method – इसमें physical papers या hard copies में form को fill किया जाता है और documents को physically submit और verify करना होता है।
  • Digital KYC method – ये प्रक्रिया पूरी तरह से Electronic Method होता है जिसमे digitally सभी documents को submit, process और verify किया जाता है।

KYC कैसे करें ? (How to submit KYC)

KYC verify करने का तरीका बोहोत सी simple होता है।

वैसे आप अपना KYC दो (2) तरीके से पूरा कर सकते है।

  • Online
  • Offline

चलिए सबसे पहले offline तरीका जान लेते है।

  • सबसे पहले आपको KYC form download करना होगा और form को सभी जरुरी details के साथ सही से fill करना होगा।
  • अपना PAN number और Aadhaar details जरूर से KYC form पर mention करे।
  • Application के साथ proof of identity और proof of address जरूर से attach करे।
  • आपको अपना एक passport sized photo भी form पर लगाना होगा।
  • अब, आपको आपने KYC application किसी KRA office पर जाकर जमा करवाना होगा। जैसे के, karvy kra और CAMS kra इत्यादि।
  • अब, KYC application जमा करने पर आपको एक application number दिया जायगा जिसके मदत से आप अपने KYC status को check कर सकते है।

चलिए अब online KYC method के बारेमे जान ले

  • Online KYC या e-KYC करवाने के लिए आपको सबसे पहले किसी KRA (KYC Registration Agency) या fund house के website पर visit करना होगा।
  • इसके लिए आप camsonline या karvykra.com वेबसाइट पर visit कर सकते है।
  • आपको सभी जरुरी details और अपना Aadhaar details सही से भरना होगा।
  • आपको अपने mobile number पर OTP मिलेगा जिसे देना होगा और application को submit करना होगा।
  • याद रखिये आपको अपने उसी mobile number पर OTP मिलेगा जो number आपके Aadhaar के साथ connected हो।
  • एकबार UIDAI के साथ verify हो जाये उसके बाद KRA आपके KYC को approve कर देगा।
  • आप अपने PAN number के जरिये अपना KYC status check कर सकते है। इसके बारेमे में आपको निचे बताऊंगा।

केवाईसी फॉर्म कैसे भरे ? (KYC form kaise bhara jata hai)

kyc form kaise bhare
KYC form कैसे भरा जाता है ?

ऊपर मैंने आपको CAMS KRA की एक KYC form का image दिखेगा।

इमेज को देखकर ही आपको पता चल जायगा के आपको अपने KYC form में क्या भरना होता है।

KYC application form को सबसे पहले internet की मदत से download कर ले और फिर उसका printout निकाले।

Form का printout निकालने के बाद आपको सही से अपने KYC फॉर्म को भरना होगा।

  • सबसे पहले Identity details में आपको अपना PAN number डालना होगा।
  • इसके बाद, आपका name, fathers name, mothers name, DOB आपको भरना होगा।
  • अब निचे आपको Gender, marital status, citizenship, residential status, occupation type इत्यादि सही box पर tick करके उनका चुनाव करना होगा।
  • अब, आपको proof identity का box दिखेगा जिसमेसे आपको उसी document box का चुनाव करना है और जरुरी details भरना है जो आप KYC के साथ देने वाले है।
  • इसके बाद आपको proof of address का section दिखेगा जहा आपको आपने address से सम्बंधित जानकारी भरना होगा और address proof / verification के लिए आप कोनसा document देने वाले है उस document के box पर tick करे।
  • आपको 4 नंबर section पर अपना contact details भरना होगा। जैसे के email address और phone number.
  • अब 5 नंबर section पर आपको FATCA / CRS information information भरना होगा जो के बोहोत जरुरी है। Country of Jurisdiction of Residence, Country Code, Tax Identification Number, Place / City of Birth, Country of Birth, Country Code ये सारे details आपको भरना होगा।
  • 8 नंबर के section पर आपको Applicant Declaration दिखेगा जिसके निचे आपको date, place और अपना signature देना होगा।
  • अब आपको अपने KYC application के साथ एक passport size photo लगाना है और अपना ID proof और address proof copy भी application में attach करना है।
  • Finally, अब आप अपने KYC application को अपने किसी fund house, BANK, KARVY, CAMS इत्यादि में जमा कर सकते है।

KYC process होने में कितना समय लगता है ?

वैसे अगर आपने सभी details को सही से भरा है और सारे documents सही से attach किया है, तब 1 या 2 दिन के अंदर KYC under process का status दिखने लगता है।

और सब कुछ सही रहा तो 4 से 7 दिन के अंदर आपका KYC पूरी तरह से बनकर तैयार हो जाता है।

KYC का status अगर KYC registered दिखाता है, तब आपका KYC बनकर तैयार हो चूका है।

अब आप mutual funds, trading इत्यादि में पैसे invest कर सकते है।

KYC status check kaise kare ?

KYC स्टेटस (KYC status) चेक करने का तरीका बोहोत ही simple है जो मोबाइल से भी किया जा सकता है।

KYC status को check करने के लिए आप 3 websites का इस्तेमाल कर सकते है।

Websites पर जाकर आपको “my kyc status” या “kyc enquiry” का link दिखेगा जिसपर आपको click करना होगा।

आपको जिस PAN number के लिए KYC status check करना है उसी PAN number को देना होगा।

अगर आपने PAN number सही डाला होगा तो आपको आपने KYC का status दिख जायगा।

KYC status check kaise kare
How to check KYC status online.

ऊपर आपको दिख रहा होगा जब हमने karvykra.com पर जाकर KYC status देखने गए तब हमे अपना PAN नंबर देना होता है।

इसके बाद captcha code को भरना है और निचे “search now” बटन पर click करना है।

KYC status check online

तो दोस्तों, ऊपर आप देख सकते है के मेरा KYC already registered है जो के cams के द्वारा registered किया गया था 2017 में।

आज आपने क्या सीखा ?

KYC क्या है (KYC Meaning in Hindi), KYC form kaise bhare और KYC से सम्बंधित सभी जरुरी तथ्य मेने आपको इस आर्टिकल पर दिया है।

में उम्मीद करता हूँ के आपको KYC ka matlab सही से समझ आ गया होगा और KYC कैसे और क्यों बनवाते है ये भी आपको पता चल गया होगा।

अगर KYC के बारेमे लिखा हुवा ये article आपको पसंद आता है, तो article को जरूर से share कीजिये गा।

इसके अलावा, article से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो निचे comment कर जरूर बताये।

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link