Affiliate marketing क्या है ? एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें – (Steps in Hindi)

आज के इस लेख में हम आपको एफिलिएट मार्केटिंग क्या है (What is affiliate marketing in Hindi) और एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें (How to start affiliate marketing) इसके बारे में जानकारी देने वाले है। एफिलिएट मार्केटिंग मीनिंग (Affiliate marketing meaning in Hindi), क्या होता है, करने का तरीका, सभी के बारेमे हम आज जानेंगे। 

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें
एफिलिएट मार्केटिंग के बारेके हिंदी में जाने।

शायद ही ऐसा कोई इंसान होगा जिसने मार्केटिंग का नाम न सुना हो, क्योंकि मार्केटिंग का नाम सभी लोगो ने जरूर से सुना है।

जब भी कोई कंपनी अपना कोई प्रोडक्ट लॉन्च करती है तो उसे अपने प्रोडक्ट को सेल करने के लिए मार्केटिंग का सहारा लेना पड़ता है।

क्योंकि बिना मार्केटिंग के प्रोडक्ट के बारेमे लोगो को बताना और उन्हें सेल कर पाना बढ़ा मुश्किल होता है।

परंतु आज हम जिस मार्केटिंग की बात कर रहे है वह इस मार्केटिंग से थोड़ी अलग है और वह कैसे अलग है यह हम आपको आगे बताएंगे।

यदि आप कोई भी ऑनलाइन काम करते है जैसे ब्लॉगिंग, यूट्यूब या और भी कोई ऑनलाइन काम, तो आपने एफिलिएट मार्केटिंग का नाम जरूर सुना होगा

कई लोग तो ऐसे भी होंगे जिन्हें एफिलिएट मार्केटिंग क्या होता है (about affiliate marketing) यह पता ही होगा।

परंतु यदि आपने सिर्फ एफिलिएट मार्केटिंग का नाम ही सुना है और आपको एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में कुछ भी पता नही है, तो कोई बात नही क्योंकि आज हम आपको एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में विस्तार से बताएंगे।

ताकि आप भी एफिलिएट मार्केटिंग करके पैसा कमा सके।

तो चलिए अब सबसे पहले आपको एफिलिएट मार्केटिंग क्या होता है या एफिलिएट मार्केटिंग मीनिंग क्या है यह बताते है। 

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है ? (What is affiliate marketing in Hindi)

जब भी कोई एफिलिएट मार्केटिंग का नाम ले या फिर आप कई पर एफिलिएट मार्केटिंग का नाम सुनते है, तो इसका सीधा सा मतलब है कि यह ऑनलाइन मार्केटिंग ही है।

वैसे affiliate marketing बोहोत से offline businesses में भी इस्तेमाल में लाया जाता है, परन्तु मूल रूप से ये online marketing / digital marketing का एक बोहोत ही ज्यादा प्रसिद्ध उपाय माना जाता है।

एफिलिएट मार्केटिंग में आपको अपना खुद का कोई प्रोडक्ट सेल नही करना होता है।

बल्कि एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए आपको कोई ऐसी ऑनलाइन कंपनी चुनना होता है जो कंपनी अपना एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम प्रदान करती हो।

जैसे कि अमेज़न और फ्लिपकार्ट अपने एफिलिएट मार्केटिंग नेटवर्क के लिए बहुत ज्यादा पॉपुलर है।

जितनी भी ऑनलाइन कंपनिया और ई-कॉमर्स वेबसाइट है यह आपको अपने वेबसाइट पर उपलब्ध प्रोडक्ट को सेल करने के लिए एक लिंक प्रदान करती है जिसे affiliate link कहा जाता है। 

फिर उस एफिलिएट लिंक को यदि आप अपने दोस्तों के साथ या फिर सोशल मीडिया साइट पर शेयर करते है या अपने blog और YouTube channel के माध्यम से promote करते है और यदि आपके लिंक पर क्लिक करके कोई उस प्रोडक्ट को खरीदता है तब आपको उस प्रोडक्ट का कमिशन कंपनी की तरफ से मिलता है।

और इसे ही एफिलिएट मार्केटिंग कहते है।

यदि आप चाहो तो अपने किसी पसंदीदा प्रोडक्ट की भी एफिलिएट लिंक तैयार करके उसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है। 

तो अब आप जान चुके है कि affiliate marketing क्या होता है

चलिए अब हम आपको यह बताते है कि आखिर एफिलिएट मार्केटिंग काम कैसे करता है।

एफिलिएट मार्केटिंग काम कैसे करता है ?

जब आप यह जान चुके है कि एफिलिएट मार्केटिंग का मतलब क्या होता है तो अब आपको यह भी जानना जरूरी है की यह काम कैसे करता है।

जैसे कि आप सभी लोग जानते ही है कि बहुत सारे ऐसे online websites है जो अलग अलग कंपनी के प्रोडक्ट को सेल करती है।

परंतु कई बार ऐसा होता है कि उन ऑनलाइन वेबसाइट्स से प्रोडक्ट उतने सेल नही हो पाते है जितने होना चाहिए।

तो ऐसे में ऑनलाइन कंपनी यह सोचती है कि उनके वेबसाइट्स पर उपलब्ध प्रोडक्ट की ज्यादा से ज्यादा सेल होना चाहिए।

अब यह ऑनलाइन वेबसाइट्स के प्रोडक्ट वही सेल कर सकते है जो किसी तरह की ऑनलाइन एक्टिविटी में शामिल हो, या फिर कोई ऑनलाइन वर्क करते हो या जिनका एक जबरदस्त online audience base मौजूद हो। 

तो ऐसे में यह ऑनलाइन वेबसाइट्स अपने प्रोडक्ट को सेल करने के लिए अपना एक एफिलिएट प्रोग्राम तैयार करती है जिससे कि लोग उनसे जुड़ सके और उनका प्रोडक्ट ज्यादा से ज्यादा सेल हो सके।

अब यह जो ऑनलाइन कंपनीज और वेबसाइट्स होती है यह अपने एफिलिएट नेटवर्क से जुड़े हुए लोगो को एक एफिलिएट लिंक तैयार करने को बोलती है और जब आप एफिलिएट लिंक तैयार करते है और फिर आपके लिंक से उनका कोई प्रोडक्ट सेल होता है तब वह आपको उसका कमिशन देती है।

तो इस तरह से एफिलिएट मार्केटिंग काम करती है। 

अब यदि आपको एफिलिएट मार्केटिंग शुरू करना है तो सवाल यह आता है की आखिर कौन सी एफिलिएट मार्केटिंग वेबसाइट्स है जो आपको एफिलिएट नेटवर्क प्रदान करती है।

तो चलिए नीचे हम आपको कुछ पॉपुलर एफिलिएट मार्केटिंग के वेबसाइट्स के नाम बताते है।

बेस्ट एफिलिएट मार्केटिंग वेबसाइट्स कौन सी है ?

वैसे यदि आप गूगल पर एफिलिएट मार्केटिंग वेबसाइट्स सर्च करोगे तो आपके सामने बहुत सारी वेबसाइट्स आ जाएगी।

परंतु उनमे से आपको सभी पर ट्रस्ट नही करना है, क्योंकि उनमें से बहुत से वेबसाइट्स से पेमेंट लेने में आपको दिक्कत आ सकती है और साथ मे ही आपको बहुत कम कमिशन भी दिया जाता है।

तो चलिए नीचे हम आपको कुछ पॉपुलर और सबसे अच्छे एफिलिएट वेबसाइट्स के नाम बता रहे है जो आपको बहुत अच्छा कमिशन देती है और नीचे बताए गए सभी वेबसाइट्स पर आप भरोसा कर सकते है। 

  1. Amazon affiliate program 
  2. Flipkart affiliate network 
  3. eBay partner network 
  4. ClickBank affiliate network 
  5. Commission Junction (CJ) affiliate network 

यदि आपको कोई भी एफिलिएट प्रोग्राम जॉइन करना है तो आप ऊपर दिए गए वेबसाइट में से जॉइन कर सकते है और एफिलिएट मार्केटिंग शुरू कर सकते है।

तो चलिए अब हम आपको बताते है कि आप एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू कर सकते है

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें ?

नीचे हम आपको स्टेप बाय स्टेप जानकारी दे रहे है ताके आप ये जान सके के आखिर एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें।

यदि आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करते है तो आप भी एक सक्सेसफुल एफिलिएट मार्केटर बन सकते है।

  1. एफिलिएट मार्केटिंग शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको अपना एक ब्लॉग या फिर यूट्यूब चैनल बनाने की जरूरत होती है। वैसे, अगर आपके social media page / profile पर बोहोत अच्छा online followers base मौजूद हे तबभी काम बन जायगा। 
  2. फिर इसके बाद आपको एफिलिएट लिंक तैयार करना होता है। जब भी आप किसी एफिलिएट प्रोग्राम को जॉइन करते है तब आपको कोई प्रोडक्ट या फिर प्रोडक्ट के पूरे पेज को सिलेक्ट करना होता है। 
  3. यदि एक बार आप प्रोडक्ट को सिलेक्ट करते है तब आपको क्रिएट लिंक का ऑप्शन मिलता है। जब आप क्रिएट लिंक पर क्लिक करते है तो आपके लिए उस प्रोडक्ट की एफिलिएट लिंक तैयार हो जाती है। 
  4. यदि आप कोई ब्लॉग बनाने की सोच रहे है तो आपको कोई प्रोडक्ट रिव्यु ब्लॉग बनाना चाहिए ताकि जब आप उस ब्लॉग पर किसी प्रोडक्ट रिव्यु का आर्टिकल लिखते है तो उस आर्टिकल के नीचे आप उस प्रोडक्ट की एफिलिएट लिंक दे सके। 
  5. यदि आप एक यूट्यूब चैनल बनाने की सोच रहे है तो आपको उस पर भी किसी प्रोडक्ट का रिव्यु देना पड़ेगा ताकि आप अपने ऑडियंस के लिए वीडियो के डिस्क्रिप्शन में उस प्रोडक्ट की लिंक दे सके।
  6. अब आपने जो लिंक दे रखी है अगर उसपर क्लिक करके कोई व्यक्ति उस प्रोडक्ट को खरीदेगा तब आपको उस प्रोडक्ट का कमिशन मिलेगा।
  7. तो इस तरह से आप एफिलिएट मार्केटिंग शुरू कर सकते है और इससे बोहोत पैसे कमा सकते है। 

एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़े कुछ महत्त्वपूर्ण सवाल

यदि आप कोई भी एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्राम जॉइन करते है तो आपको उसमे कई छोटी छोटी चीजें देखने को मिलती है जैसे affiliate ID, affiliate link और ऐसे बहुत सारी चीजें दिखेगी।

और ऐसे में यदि आप नए है तो आपको इन सभी चीजों के बारे में जानना जरूरी है।

तो चलिए नीचे हम आपको उन सभी छोटी छोटी चीजो का क्या मतलब होता है यह बताते है।

Q.1. एफिलिएट प्रोग्राम क्या होता है ?

एफिलिएट प्रोग्राम यह ऑनलाइन e-commerce company / website द्वारा आयोजित किया जाता है जिसमे आप उनके एफिलिएट प्रोग्राम में जॉइन होते है और एक एफिलिएट लिंक तैयार करते है।

फिर आप उस एफिलिएट लिंक को अपने ब्लॉग या यूट्यूब द्वारा प्रमोट करते है और फिर जब भी कोई आपके लिंक पर क्लिक करके कोई प्रोडक्ट खरीदता है तब आपको उसका कमिशन मिलता है।

Q.2. एफिलिएट मार्केट क्या होता है ?

एफिलिएट मार्केट यह एफिलिएट प्रोग्राम का ही एक हिस्सा है।

एफिलिएट मार्किट में आपको कई सारे प्रोडक्ट की लिस्ट दिखती है फिर आप उसमे से अपने मनचाहा या फिर जिस प्रोडक्ट में ज्यादा कमिशन मिलता है उस प्रोडक्ट को एफिलिएट मार्किट से चुन सकते है और उन्हें प्रमोट कर पैसे कमा सकते है। 

Q.3. एफिलिएट आयडी क्या होती है ?

यह भी एक अहम सवाल है और बहुत से लोगो को यह पता ही नही होता है।

यदि आपको नही पता कि एफिलिएट आयडी क्या होती है तो कोई बात नही हम आपको बताते है।

एफिलिएट आयडी यह एक यूनिक आयडी होती है और यह आपको तब मिलती है जब आप किसी एफिलिएट प्रोग्राम को जॉइन करते है।

यह एफिलिएट आयडी आपके एकाउंट की पहचान आयडी भी होती है। 

Q.4. एफिलिएट लिंक क्या होती है ?

एफिलिएट लिंक क्या होती है यह जानना भी आपके लिए बहुत आवश्यक है।

जब भी आप किसी एफिलिएट प्रोग्राम को जॉइन करते है तब आपको कोई प्रोडक्ट या फिर प्रोडक्ट के पूरे पेज को सिलेक्ट करना होता है।

यदि एक बार आप प्रोडक्ट को सिलेक्ट करते है तब आपको क्रिएट लिंक का ऑप्शन मिलता है।

जब आप क्रिएट लिंक पर क्लिक करते है तो आपके लिए उस प्रोडक्ट की एक यूनिक लिंक (unique link) तैयार हो जाती है और इसे ही एफिलिएट लिंक कहा जाता है।

इसी affiliate link की मदत से आपको product promote करना होता है और इसी link के जरिये आपके sales को track किया जाता है।

Q.5 एफिलिएट कमिशन क्या होता है ?

वैसे आप लोग तो अच्छे से जानते ही होंगे की कमिशन क्या होता है।

तो यदि हम एफिलिएट कमिशन की बात करे तो यह भी बाकी कमिशन जैसा ही होता।

क्योंकि जब आप किसी प्रोडक्ट को सिलेक्ट करके उसकी लिंक तैयार करते है और फिर उस लिंक को जब आप प्रमोट करते है तब होता यह है कि कोई व्यक्ति आपके द्वारा दी गयी लिंक पर क्लिक करके उस प्रोडक्ट को खरीदता है।

और फिर उस व्यक्ति द्वारा वह प्रोडक्ट खरीदे जाने पर आपको उस प्रोडक्ट के पूरी कीमत का कुछ हिस्सा मिलता है, जिसे एफिलिएट कमिशन कहा जाता है।

Q.6. एफिलिएट पेमेंट मोड क्या होता है ?

जब आप अपनी एफिलिएट लिंक बनाते है और आपके लिंक से प्रोडक्ट सेल होने लगते है तब आपको पेमेंट लेने की जरुरत होती है।

तो अब पेमेंट लेने के लिए आपको पेमेंट के कुछ ऑप्शन मिलते है जैसे चेक, पेयपाल, बैंक वायर ट्रांसफर। 

तो यदि आप पेमेंट लेना चाहते है तो आप इनमें से कोई भी ऑप्शन सिलेक्ट कर सकते है।

और इसी पेमेंट ऑप्शन को पेमेंट मोड भी कहा जाता है। 

 

Conclusion

तो इस लेख में हमने आपको एफिलिएट मार्केटिंग क्या है (About affiliate marketing in Hindi), एफिलिएट मार्केटिंग मीनिंग, एफिलिएट मार्केटिंग कैसे शुरू करें इसके बारे में पूरी जानकारी दे दी है।

हम आशा करते है कि आज का यह लेख आपको पसंद आया होगा।

यदि आपको आज का यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और सोशल मीडिया साइट पर जरूर शेयर करे। 

अगर हमारे आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव आपके मन में हो तो निचे comment के करके हमे बता सकते है।

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link