एक्टिव और पैसिव इनकम क्या है – (Passive income meaning in Hindi)

पैसिव इनकम कमाने का एक सोर्स है, जिस प्रकार एक्टिव इनकम सोर्स होता है। एक्टिव और पैसिव इनकम सोर्स का चलन काफी पुराना है, लेकिन कमाने के तरिके आज काफी अलग हो चुके हैं। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि पैसिव इनकम क्या है (what is passive income in Hindi), पैसिव इनकम कमाने के तरीके क्या है और कैसे कमाए आदि ? 

passive income meaning in Hindi
पैसिव इनकम कैसे कमाए ?

वर्तमान समय में एक्टिव इनकम के साथ पैसिव इनकम सोर्स की काफी जरूरत होती हैं, क्योंकि पैसिव इनकम से हम अपनी जिंदगी को थोड़ा आराम दे और आसान बना सकते है।

पैसिव इनकम क्या होता है – (Passive income meaning in Hindi)

Passive income का अर्थ इसके शब्द से ही स्पष्ठ होता है कि ऐसा इनकम सोर्स जिसमें आपको active (सक्रिय) रहकर काम नही करना पड़ता है, लेकिन फिर भी आपको इनकम मिलती रहती है।

पुराने समय में लोग ठेकेदार, सरदार या राजा के रूप में पैसिव इनकम कमाते थे, जिसमें उन्हे कोई भी काम नही करना पड़ता था लेकिन फिर भी उन्हे पैसे मिलते रहते थे।

21 वीं सदी का समय (वर्तमान समय) पुराने समय से काफी एडवांस हो चुका है, और इनकम कमाने के हजारों या लाखों सोर्स खुल चुके हैं।

अगर आप मेहनती है और आपके पास अच्छा दिमाग है तो आप किसी भी प्रस्थिति में पैसिव इनकम कमा सकते हैं और आप स्वयं अपना पैसिव इनकम सोर्स बना सकते हैं।

पैसिव इनकम के लिए आपको बहुत कम या न के बराबर मेहनत करने की आवश्यकता होती है, क्योंकि इस सिस्टम में आप पैसे के लिए काम नही करते है बल्कि पैसा आपके लिए काम करता है।

वर्तमान समय में पैसिव इनकम कमाना बेहद जरूरी है, इससे आप अपने परिवार को समय दे पाएंगे, अन्यथा इस भाग दौड़ की जिंदगी में आपको बिल्कुल भी समय नही मिलेगा।

दुनिया में पैसे कमाने के दो सोर्स होते हैं-

  1. Passive income
  2. Active income

पैसिव इनकम क्या है ? (What is passive income in Hindi)

पैसिव इनकम का साधारण भाषा में मतलब है कि आपकी अनुपस्थिति में भी आपको पैसे मिलते रहेंगे, हालांकि इसमें आपको सिर्फ निगरानी का काम करना होता है। कुछ कमाई के तरिके ऐसे भी होते है, जिसमें आपको सिर्फ पैसे इनवेस्ट करने के लिए जरूरत होती है और आपका स्वत: होता रहता है। इस पैसिव इनकम को हम दो उदाहरण से समझने की कोशिश करेंगे।

  1. उदाहरण: एक कंपनी है, जिसके मालिक आप है और आपकी कंपनी लेपटॉप का निर्माण करती है। यहां पर आपको पैसे इन्वेस्ट करने की जरूरत होती है और आपके पैसे पर लोग काम करते रहते हैं। उनके काम के बदले आपको कमाई होती है, और यह कमाई सीधे आपके अकाउंट में पहुंचती है, क्योकी कंपनी में पूरा काम मैनेजर और कर्मचारी करते हैं।
  2. उदाहरण: ऋण मकान भी पैसिव इनकम का एक अच्छा तरिका है, क्योंकि इसमें एक बार इनवेस्ट करने के बाद आपको लगातार पैस मिलते रहते हैं। इसके अलावा ऋण रूम या फ्लैट की जरूरत सभी को होती हैं, अत: Passive income का सबसे अच्छा स्रोत है।

नोट: वर्तमान में नेटवर्क मार्केटिंग पैसिव इनकम का सबसे अच्छा स्रोत माना जा रहा है, हालांकि इसमें शुरूआत में काफी मेहनत करनी पड़ती है।

एक्टिव इनकम क्या है ? (Active income meaning in Hindi)

इसका भी सामान्य अर्थ है कि इस प्रकार के इनकम सोर्स में आपको लगातार काम करने की आवश्यकता होगी, अन्यथा आपको बिल्कुल पैसे नही मिलेंगे। इसे भी हम एक उदाहरण  से समझ सकते हैं –

उदाहरण: आपके पास एक किराने की दुकान है, जिस पर सिर्फ आप बैठ सकते हैं। अगर किसी दिन आप बीमार हो जाते है, तो वह काम बिल्कुल रुक जाता है और इनकम का सोर्स भी बंद हो जाता है, मतलब आपके एक्टिव रहने पर ही आपको पैसा मिलता है।

Passive और Active Income में अंतर

इन दोनों इनकम सोर्स में निम्न अंतर हैं-

Passive IncomeActive Income
यहां पर आपको निष्क्रिय रूप से काम करना पड़ता है।यहां पर सक्रिय रूप से काम करना पड़ता है।
फ्री टाइम मिलता है।कोई स्वतंत्रता नही मिलती है।
आर्थिक स्थिति मजबूत बन जाती है।अच्छी आर्थिक स्थिति नही होती है।
तनख्वाह पर कम निर्भरता होती है।तनख्वाह पर अधिक निर्भरता होती है।
परिवार को समय दे सकते है।परिवार को समय दे पाना मुश्किल होता है।
स्वस्थ शरीर के साथ काम कर सकते है।अस्वस्थ होने की ज्यादा समस्या रहती है।
अपने लक्ष्य पर आसानी से काम कर सकते है।लक्ष्य के लिए काम करने की स्वतंत्रता नही होती है।

पैसिव इनकम के फायदे

इस इनकम का के कुछ महत्वपूर्ण फायदे हैं, जैसे-

  • पैसिव इनकम से आपको सबसे ज्यादा फ्री टाइम मिलेगा।
  • किसी भी अन्य काम को करने की स्वतंत्रता मिलती है।
  • अपनी परिवार को पूरा समय दे सकते है।
  • अपने लक्ष्यों और सपनों को पूरा कर सकते है।
  • स्वस्थ रहकर पैसे कमा सकते है।
  • आर्थिक रूप से स्वतंत्र बन सकते है।

अन्य अनेक फायदे है, जो आप पैसिव इनकम कमाने के बाद स्वयं जान जाओगे।

पैसिव इनकम कमाने के तरीके

पैसिव इनकम कमाने के तरिके बहुत सारे होते है, जिसमें आपको काम करने की आवश्यकता नही हैं। इसके आप इन Passive income kamane ke tarike खुद भी बना सकते हैं, अगर आपके अच्छा और मेहनती दिमाग है तो। हम आपके लिए कुछ पैसिव इनकम कमाने के तरिके लेकर आए हैं, और ये इनकम के तरिके आपको लंबे समय तक पैसिव इनकम देते रहेंगे।

रियर एस्टेट

यह सबसे बेहतरिन passive income कमाने का आइडिया है। इस तरिके में आपको संपत्ति खरिदनी होती है और उसे किराये पर देनी होती है। आप किराये के लिए मकान, होटल या बिल्डिंग बना सकते है और इससे काफी अच्छी कमाई कर सकते हैं।

नोट: इस आइडिया में शुरूआत में काफी पैसे की जरूरत होती है।

नेटवर्क मार्केटिंग

ऐसा माना जा रहा है कि 2021 से 2025 तक नेटवर्क मार्केटिंग का दौर चलेगा, और अगर आप इन पांच वर्षों में कड़ी मेहनत कर लेते हैं, तो आप कुछ वर्षों बाद सबसे अच्छी पैसिव इनकम कमा सकते है।

इस आइडिया में आपको अधिक पैसों की आवश्यकता नही होती है, बल्कि समय और जुनुन की जरूरत होती है।

किसी भी नेटवर्क मार्केटर का भविष्य काफी उज्जवल होता है, लेकिन उसके लिए आपको काफी मेहनत करनी होगी।

नेटवर्क मार्केटिंग से आप प्रत्येक सप्ताह लाखों रूपयें की पैसिव इनकम कमा सकते हैं।

शेयर मार्केट

यह एक बेहतरिन और आसान तरिका है, लेकिन इसमें काफी रिस्क रहता है। इसमें आपको अपनी रिसर्च और अनुभव के आधार पर अच्छी कंपनी के शेयर खरिदने पड़ते हैं। इसके बाद कंपनी काम करती है और अपने मुनाफे में से कुछ मुनाफा आपको देती है।

नोट: इस आइडिया में रिस्क पूरा रहता है।

क्रिप्टो करेंसी

यह भी अच्छा और आसान आइडिया है, जिसमें आपको डिजिटल करेंसी (बिटकॉइन, इथेरिम, रिप्पल, कार्डेनो और बिट कैश आदि) को खरिदनी पड़ती है और सही समय पर बेंचनी होती है।

उदाहरण: 2011 में बिटकॉइन की कीमत सिर्फ $1 थी और 2021 में $60,000 हो गयी। अगर आप 2011 में 5000 रूपयें के बिटकॉइन खरिदते तो आपको वर्तमान में 30 करोड़ रूपयें मिलते हैं।

इसमें आपको सही समय पर बेंचना और खरिदना होता है, हालांकि इसमें काफी समय लग सकता है।

म्यूच्यूल फंड्स

यह आइडिया भी आसान है, जिसमें आपको पैसे इन्वेस्ट करने होते हैं।

यह और शेयर मार्केट एक समान ही है, लेकिन शेयर मार्केट में आपको रिसर्च करके पैसे लगाने होते हैं और म्यूच्यूल में यह काम एसेट मैनेजमेंट कंपनीया करती है।

ब्लागिंग, एफिलिएट और यूट्यूब

यह तीनों ऑनलाइन पैसिव इनकम कमाने के सबसे बेस्ट और लाभदायक प्लेटफॉर्म है। ब्लोगिंग में आपको वेबसाइट बनानी होती है, जिस पर आपको आर्टिकल पब्लिस करने पड़ते है और उस आर्टिकल पर Google AdSense विज्ञापन देता है।

उन विज्ञापन पर क्लिक आने से आपको पैसिव इनकम मिलती है।

एफिलिएट में आपको आपको किसी कंपनी के सर्विस के साथ जुड़ना है और उनके प्रोडक्ट्स या सर्विस को आगे ऑनलाइन बेंचना है।

यू्ट्यूब भी ब्लोगिंग की तरह है, लेकिन अंतर यह कि यहां पर आपको विडियों पब्लिस करने पड़ते हैं, जिस पर AdSense विज्ञापन चलाता है।

मोबाइल ऐप्प भी पैसिव इनकम देता है, जिस पर गुगल या अन्य प्लेटफॉर्म अपने विज्ञापन देते हैं।

ड्रोप शिपिंग

यह तरिका एफिलिएट के समान ही होता है, जिसमे एक ई-कॉमर्स वेबसाइट बनानी होती है और उस पर कंपनी के प्रोडक्ट्स की लीस्ट को प्रस्तुत करना होता है। यहां पर आपको सिर्फ ऑनलाइन ऑर्डर लेने होते हैं, बाकि पूरा काम कंपनी का होता है और कंपनी आपको कुछ मुनाफा आपको देती है।

अन्य तरिके

बुक्स एंड ई-बुक्स, IPO में निवेश, FOCO मॉडल फ्रैचाइजी बिजिनेस, ट्रांसपोर्ट बिजिनेस, एजुकेशनल कोर्सेज, बैंक में फिक्सड डिपॉजिट (ब्याज), ऑनलाइन फोटो सेलिंग, फेसबुक स्पोंसर्ड पोस्ट, रेफरल एप्स और लाइफ इंस्योरेंस कंपनी का एजेंट आदि।

अंतिम शब्द (Conclusion)

इस आर्टिकल में मैने पैसिव इनकम के बारे में विस्तार से संपूर्ण जानकारी दे दी है, उमीद है कि आपको पैसिव इनकम क्या है, पैसिव इनकम कमाने के तरीके और इससे सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त हो गयी होगी। आप चाहे तो किसी भी पैसिव इनकम कमाने के तरिके से संबंधित सहायता हम से ले सकते हैं। किसी भी तरह की सवाल या सुझाव के लिए आप हमे निचे कमेंट कर सकते है। 

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link