भारत में किराने की दुकान कैसे शुरू करें | किराना स्टोर व्यापार

भारत में किराने की दुकान कैसे शुरू करें ? (Kirana store business ideas in Hindi) जानिए कुछ प्रभावी तरिके इस आर्टिकल की मदत से। 

किराने की दुकान कैसे शुरू करें
How to start grocery shop business in India ?

आप Grocery Store के बारे में अवश्य जानते होंगे, जहां पर घरों की रसोई के आवश्क सामान जैसे दाल, चावल, गेंहू आदि और अन्य घरेलू सामान जैसे डिटर्जेंट, सैनिटाइजिंग तरल पदार्थ, टूथपेस्ट, साबुन इत्यादि मिलते हैं।

किराना स्टोर का व्यापार (grocery business plan in Hindi) सबसे ज्यादा मुनाफा देती है और इस तरह के व्यापार से 12 महिनें कमाई कर सकते हैं।

किराने की दुकान को कम निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है, लेकिन ग्रोसरी स्टोर के लिए सही लोकेशन का होना बहुत जरूरी है।

किराने की दुकान शुरू करने के लिए थोड़ा बहुत अंकगणितीय ज्ञान की आवश्यकता होती है। अत: यह भारत का एक लोकप्रिय बिजनेस आइडिया है।

वर्तमान में भारत के कोने-कोने में किराने की दुकान मिलती है, अत: इस बिजनेस में मुनाफे के साथ प्रतिस्पर्धा भी अधिक है।

इसलिए अधिकतर लोग यही सवाल करते हैं कि भारत में किराने की दुकान कैसे शुरू करें ? शायद आपके पास भी यही सवाल है, अगर हां तो इस आर्टिकल को अच्छे से पूरा पढ़े।

किराना स्टोर का व्यापार क्या है ?

आप Grocery Store यानी किराने की दुकान के बारे में अवश्य जानते होंगे, लेकिन किराना स्टोर का व्यापार क्या हैं, यह बताना आवश्यक है।

किराने की दुकान को परचून की दुकान और मिनी ग्रोसरी स्टोर भी कहा जाता है।

जहां पर घरेलू आवश्यक सभी प्रकार की चीजें मिलती हैं, जैसे दाल, चावल, घी, तेल, मिर्च, नमक, मसाले, चाय मसाले, दूध, दही इत्यादि।

इसके अलावा भी अन्य कई आवश्यक सामान मिलते हैं।

किराना का सामान होलसेलर्स से खरिदा जाता है और उन सामान को कुछ मार्जिन के साथ ग्राहकों को बेचा जाता है।

इस तरह के सामानों की जरूरत रोजाना पड़ती हैं, अगले कई वर्षों इन सामान की मांग होती रहेगी। अत: आप इस भारत में किरान की दुकान शुरू कर सकते है।

ध्यान दे कि ग्राहक आजकल तीन जगहों से सामान लेना ज्यादा पसन्द कर रहा है, मतलब-

  1. किराना स्टोर या mini Grocery Store.
  2. Super Market.
  3. Online Grocery Store.

वर्तमान में हमारा भारत देश भी एडवांस होता जा रहा है, और इस एडवांस विकास में लोग ऑनलान ग्रोसरी स्टोर से सामान खरिद रहे हैं, जैसे बिगबास्केट, ग्रोफर्स आदि।

हालांकि आज भी अनेक लोग स्थानीय क्षैत्रों की किराना की दुकान से सामान खरिदते है।

देखा जाए तो हमारे देश में 12 मिलियन या उससे भी अधिक किराने की दुकानें मौजुद हैं, जिसमें 90% से अधिक फूड एंड ग्रोसरी मार्केट चल रहे हैं।

किराने की दुकान कौन खोल सकता है ?

किराने की दुकान शुरू करने के लिए किसी विशेष प्रकार के क्वालिफिकेशन या कोर्स की जरूरत नही होती है।

लेकिन अगर आप 10वीं या 12वीं की पढ़ाई करते है, तो इससे हिसाब-किताब में काफी मदद मिलती है। 

हालांकि कई लोग बिना पढ़ाई के भी वर्षों से इस काम को कर रहे हैं, और बहुत अच्छे से कर रहे है।

ध्यान दे कि उनके पास पढ़ाई तो नही है, लेकिन उनके पास अनुभव बहुत है।

इसके अलावा Grocery Store खोलने के लिए एक सही जगह होने आवश्यक है, ताकि आप ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को सामान बेच सके।

वर्तमान समय में एक सफल दुकान वही खोल सकता है, जो दिमाग से बिजनेस प्लान के साथ शुरूआत करता है और सही मार्केट रणनीतियों के साथ काम करता है।

मुझे विश्वास है कि आप हमारे आर्टिकल की सहायता से एक सफल Grocery Store खोल सकते है। 

भारत में किराने की दुकान कैसे शुरू करें ?

आप यह अवश्य जानते होंगे कि आज रोजगार के लिए कितने-सारे युवा तैयारी कर रहे है, और प्रतिस्पर्धा भी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है।

यह प्रतिस्पर्धा हर में क्षैत्र में बढ रही है, मतलब किराने की दुकान चलाने के लिए भी कड़ी प्रतिस्पर्धा करनी पड़ती है।

आज कई लोग बिना बिजनेस प्लान या बिना रिसर्च के दुकान खोल लेते है, और अंत में वे असफल रहते हैं।

अत: आप किराने की दुकान से अच्छी कमाई करना चाहते है, तो आपकों बिजनेस प्लान के साथ दुकान खोलनी चाहिए।

किराना स्टोर व्यापार के लिए बिजनेस प्लान 

प्रतिस्पर्धा युक्त समय में छोटे या बडे़ स्तर पर Grocery Store शुरू करने के लिए बिजनेस प्लान की आवश्यकता होती है।

बिजनेस प्लान बनाने का मतलब विश्लेषण या रिसर्च करना है। बिजनेस प्लान आप कई तरह से तैयार कर सकते है।

इसके अलावा, बिजनेस प्लान को तैयार करने के लिए आपका आकलन एकदम सटीक होना चाहिए, और बिजनेस प्लान में अपने गोल को निश्चित करे।

बिजनेस प्लान बनाने के लिए अपने ग्राहकों की मांग का विश्लेषण करे, मतलब ग्राहकों की पसंद और नापसंद को जाने।

इससे आप ग्राहकों बेची जाने वाली वस्तुओं एवं बिक्री पर अच्छी रणनीति तैयार कर सकते है।

बिजनेस प्लान में आप निम्न पहलूओं पर विचार कर सकते है, जैसे ग्राहकों की पृष्ठभूमि, ग्राहकों के खर्च करने की क्षमता, उनके खर्च करने की आदतें, उनका स्थान, उनका जीवन स्तर और वे कौनसा सामान कब, कितना और कहां से खरिदना पसंद करते है इत्यादि।

इस तरह आप दुकान खोलने से पहले अच्छी तरह से विश्लेषण करें। उसके बाद अगले चरण की तरफ चले।

लक्ष्यों का निर्धारण करे

अब अपने लक्ष्यों अर्थात् ग्राहकों को टारगेट करे। उनकी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए उन्हे सामान बेचने की कोशिश करे।

और उन्हे अन्य से बेहतर सुविधा देने की कोशिश करें, जैसे छुट, बोनस या फिर एक छोटा-सा एक्स्ट्रा सामान इत्यादि।

ध्यान रहे कि आपको अपनी दुकान के साइज के अनुसार ग्राहको को टारगेट करना है।

सही लोकेशन का चुनाव

अगर आपने बिजनेस प्लान बना लिया है और ग्राहकों को टारगेट कर लिया है, तो अब एक सही लोकेशन की तलाश करे जहां पर आसान से आ सके।

मतलब भीड़-भाड़ वाले इलाके या पैदल चलने वाले इलाके में लगाए।

और कोशिश करे कि आपकी दुकान कोर्नर पर हो ताकि इससे आपको ज्यादा मुनाफा मिल सके।

लोकेशन को अपने ग्राहकों के आधार पर चुने।

किराना स्टोर के लिए निवेश की आवश्यकता

यह एक ऐसा बिजनेस है, जिसे अपनी क्षमता के आधार पर निवेश के साथ शुरू कर सकते है।

लेकिन अगर आप अच्छी कमाई करना चाहते है और सफल बिजनेस करना चाहते है, तो आप शुरूआती समय में 75000 से 1 लाख रूपयें का निवेश कर सकते है। 

हालांकि वर्तमान समय में प्रतिस्पर्धा काफी ज्यादा बढ चुकी है, और ऐसे में सफल किराना स्टोर का व्यापार करने के लिए पर्याप्त सामान, फर्नीचर, डिजाइन, विज्ञापन आदि की जरूरत होती है।

जिसके लिए 1 लाख रूपयें से 3 लाख रूपयें का खर्च होता हैं। 

भारत में किराने की दुकान शुरू करने के लिए आवश्यक चीजें –

  1. किराया की लागत
  2. स्टोर के लिए अलमारियां, फर्नीचर, कुर्सी, प्रदर्शन रैक आदि
  3. कुछ उपकरण जैसे कंप्यूटर या कैलकुलेटर, कैश रजिस्टर, कैमरे और घड़ी आदि
  4. दुकान और कर्मचारियों के लिए बीमा योजना
  5. इन्वेंटरी बेचने के लिए चीजों और सभी आवश्यक वस्तुओं की सुची
  6. कर्मचारियों की आवश्यकता और उनका वेतन
  7. दुकान की दैनिक सफाई के लिए सामग्री
  8. अन्य उपकरण जैसे एसी या पंखा और लाइट्स आदि
  9. टैक्स, शुल्क और परमिट पर ध्यान दे
  10. मार्केटिंग और विज्ञापन के लिए लागत

इन बिंदुओं के आधार पर आप किराने की दुकान के लिए निवेश का अंदाजा लगा सकते है।

किन-किन लाइसेंस की जरूरत होती है ?

किराने की दुकान के लिए भारत में कोई भी कठोर नियम नही हैं, लेकिन फिर भी आप अपनी सुरक्षा के लिए FSSAI की अधिकारिक ऑनलाइन वेबसाइट पर सर्टिफिकेट भी बना सकते है।

भारत के एडवांस समय में हो सकता है कि आगे इस सर्टिफिकेट को अनिवार्य कर दिया जाए।

इसलिए हमें स्थानीय नियमों की अनदेखी किये बिना इस सर्टिफिकेट को बनाना चाहिए।

इस सर्टिफिकेट को आप ऑनलाइन 100 से 150 रूपयें के शुल्क पर बना सकते है।

यह सर्टिफिकेट 1 या 2 वर्ष के लिए बनाया जाता है और फिर इसका दुबारा रिन्यू करना पड़ता है।

इसके अलावा आपको trade license भी बनवाना होता है जो बोहोत ही कम या मामूली लागत में बन जाता है।

Grocery Store पर ग्राहक कैसे बढ़ाये ?

अपनी दुकान पर ग्राहक बढ़ाने के लिए कई तरिके होते हैं।

आप कुछ ट्रिक्स का इस्तेमाल करके अपनी किराने की दुकान पर ग्रहकों को बढ़ा सकते है।

  • दुकान को आकर्षक बनाना
  • प्रोडक्ट की निश्चित कीमत
  • प्यार भरा आपका और आपके स्टाफ का व्यवहार
  • सिद्धांत पर दुकान के नियम बनाए
  • दुकान पर सामान (इन्वेंटरी) का पर्याप्त स्टॉक रखे
  • सभी ग्राहकों को जल्दी से अटैंड करे
  • ऑनलाइन भुगतान की सुविधा रखे
  • ग्राहकों को उचित मार्जिन पर सामान बेचे
  • अपने ग्राहकों के साथ अच्छा संबंध बनाए

भारत में किराने की दुकान से कितना लाभ मिलता है ?

आज के समय में किराना स्टोर का व्यापार काफी तेजी से बढ़ रहा है।

भारत के कई छोटे से बड़े उद्यमी भारत में किराने की दुकान शुरू कर रहे है।

किराने की दुकान से 2% से 20% तक का मार्जिन लाभ प्राप्त कर सकते है। यह भारत का एक आकर्षक बाजार है।

किराना दुकान समान लिस्ट इन हिंदी

Grocery Store एक ऐसी स्टोर होती है, जहां पर सभी तरह के दैनिक जरूरी सामान मिलते हैं।

और दैनिक जरूरी चीजें अनेक तरह की होती हैं, जिन्हे इस आर्टिकल में नही लिखा जा सकता हैं, क्योंकि इससे आर्टिकल बहुत लंबा हो सकता है।

लेकिन हम आपको कुछ कैटेगरियां दे देते है, जिसके आधार पर किराने के सामान की लीस्ट बना सकते है।

  • खाद्य सामग्री (आटा, दाल, नमक, घी, तेल इत्यादि)
  • मसाले (धनिया, हींग, लौंग, चायपत्ती, मिर्च पाउडर इत्यादि)
  • दालें (मसूर, उड़द, अरहर, चना की दाल इत्यादि)
  • रसोईघर के सामान (मैदा, सूजी, बेसन, पापड़, पनीर इत्यादि)
  • सब्जियां (धनिया, खीरा, हरी मिर्च, गाजर, फूलगोभी इत्यादि)
  • पूजा का सामान (अगरबत्ती, माचिस, कपूर, रूई इत्यादि)
  • ड्राई फ्रूट (किशमिश, बादाम, सुपारी, मखाना, काजू इत्यादि)
  • Toiletries और Cleaning सामान (साबून, शैंपू, डिश वॉश, केश तेल, टूथपेस्ट इत्यादि)

 

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने बताया कि भारत में किराने की दुकान कैसे शुरू करें ? (how to start grocery store in India) और इससे संबंधित कुछ अन्य जानकारीयां भी देने की कोशिश की हैं, जैसे किराना दुकान समान लिस्ट इन हिंदी और ग्राहक कैसे बढ़ायें इत्यादि।

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो आर्टिकल को सोशल मीडिया पर शेयर जरूर से करे।

इसके अलावा, आर्टिकल से रिलेटेड कोई सवाल या सुझाव हो तो निचे कमेंट कर जरूर से बताए।

 

error: Content is protected !!
Scroll to Top
Copy link